कविता- गरीबी

एक दिन गया बाजार मैं
जेब में रूपये दस !
जी चाहे खाऊँ समोसे
कुरकुर और भसभस !!
पूछन लगा दूकान में
देगा क्या सरबस !
बोला पेटले सेठ ने
एक का रूपये दस !!
गरीबी अभिशाप है
वही लगाया दंस !
हुआ मुझे एहसास तब
हो गया यह बरबस !!
लेनी थी सब्जी मुझे
मन को डांटा बस !
आँखो को समझा लिया
खुद पे दिया मैं हंस !!

उपाध्याय (मतिहीन)
१८-६-२०१६


 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Chandra Prakash - July 28, 2016, 12:30 pm

    true lines

Leave a Reply