कविता

कोई भी तीर चला ले मगर एक
बात है खासिद,
हमें भी चोट खाने में महारत
कम नही हासिल |
कहा मतिहीन करते है तजूर्बें से
बडे होना
भले ही उम्र कल की है तजूर्बा
कम नही हासिल ||
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:04 pm

    bahut sundar manoj ji

Leave a Reply