गजल

जिन्दगी जब भी मुस्कुराती है
गीत उनके ही गुनगुनाती है |
पलक गीरते जो पास होती है
आँख खुलते ही चली जाती है ||
कदम-कदम पे मुश्किलें मिलती
जिन्दगी हमको आजमाती है |
आशना जिसको बना रखा था
ओ नही याद उनकी आती है ||
नजर बचा के निकलने वाले
तेरी हसरत बहुत सताती है ||
दम तोडा है किसी ने शायद
सलवटे गम की ये बताती है ||
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:07 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply