‘मुफ्त फूलों के साथ………

0

‘मुफ्त फूलों के साथ बिकती है,
खुश्बूओं में वजन नहीं होता।’
………………..सतीश कसेरा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

I am Journalist and Writer. I like Story, Poem and Gazal's

3 Comments

  1. Sridhar - May 27, 2016, 9:36 pm

    behatreen

  2. Kavi Manohar - May 28, 2016, 7:31 pm

    Nice one

Leave a Reply