‘हर अश्क सोख लेता है…………….

0

‘हर अश्क सोख लेता है वो आंख से मेरे,
रोने भी नहीं देता मुझे,  दर्द का सहरा…।’
………………………………………..सतीश कसेरा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

I am Journalist and Writer. I like Story, Poem and Gazal's

5 Comments

  1. Panna - October 2, 2016, 11:03 am

    bahut khoob Satish sir

  2. Anirudh sethi - October 3, 2016, 9:10 am

    nice

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 17, 2019, 11:54 pm

    वाह बहुत सुन्दर

Leave a Reply