“ख़ुदा-ख़ुदा करके”

ღღ_तजुर्बे सब हुए मुझको, महज़ उससे वफ़ा करके;
दुआ जीने की दी उसने, मुझे खुद से जुदा करके!
.
मैं कहना चाहता तो हूँ, यकीं उसको अगर हो तो;
ग़ैर का हो नहीं सकता, उससे अहद-ए-वफ़ा करके!
.
मैं मुजरिम हूँ अगर तेरा, सजा जो चाहता हो दे;
न ख़ुद से दूर रख तू यूँ, मर जाऊंगा ज़रा-ज़रा करके!
.
शिकायत है अगर मुझसे, तो बताते क्यूँ नहीं आख़िर;
सुकून थोडा तो मिल जाता, हाल-ए-दिल बयां करके!
.
नज़र किसकी लगी है “अक्स”, ख़ुदाया प्यार को अपने;
कौन है अपना, जो मुझको लूटता है ख़ुदा-ख़ुदा करके!!…..‪#‎अक्स‬
.

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

सुखद है मित्रों का संसार

प्यारे मित्रो

From Death 2 Life

एक राह अक्सर चलोगे

एक राह अक्सर चलोगे

3 Comments

  1. Praveen Nigam - June 26, 2016, 4:28 pm

    Nice one

  2. देव कुमार - June 28, 2016, 12:59 pm

    So Nice

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:42 pm

    बहुत सुंदर

Leave a Reply