ज़िंदगी अभी तक थमी हुई है

उसका हुस्न – ए – तसव्वुर जैसे ज़िंदगी थमी हुई है

ज़ियारत -ए -रुख़-ए -अनवर आज सुबह ही हुई है

उसकी सोहबत  से फ़ुरक़त हैं  ‘मियाँ ‘

फिर भी दयार -ए -दिल की क़िस्मत तो देखो

ज़िंदगी अभी तक थमी हुई है


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Panna - October 22, 2016, 11:35 am

    bahut khoob

  2. anupriya sharma - October 22, 2016, 11:49 am

    nice

Leave a Reply