Ghazal

नींद

आजकल नींद सोती है मेरे बिस्तर पर, और मैं तो ख्यालों की दुनिया मैं टहलने निकल जाती हूँ| »

जीतना

मुझको मुझसे जीत कर, खुशियाँ मना रहे थे वो| शायद हारकर जीतने और जीत कर हारने के , उस एहसास से वाकिफ़ न थे वो| »

ज़मीन तुम हो

मेरी हर इक ग़ज़ल की अब तक ज़मीन तुम हो ….. मेरा अलिफ़ बे पे से चे और शीन तुम हो …. जज़्बात से बना मैं इक प्यार का नगर हूँ रहते हो इस में तुम ही इस के मकीन तुम हो ….. इन क्रीम पाउडर का एहसान क्यूँ हो लेते मैं जानता हूँ तुमको कितने हसीन तुम हो …. तुमको कोई तो समझे संसार कोई साँसे लेकिन किसी की ख़ातिर कोई मशीन तुम हो …. टूटोगे तुम कभी तो बिखरूंगा मैं ज़मीं पर कुछ और हो न हो पर... »

कवि

कवि होना भी खुदा की रहमत का ही नमूना है वरना युं अपने दर्द को शब्दों में बयां कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं। »

उदास

पानी से भरी आखें लेकर मुझे घूरती ही रही शीशे के उस पार खड़ी लड़की उदास बहुत थी। »

जहां में चाहे गम हो या खुशी क्या

गजल : कुमार अरविन्द जहां में चाहे गम हो या खुशी क्या | मेरे मा – बैन रंजिश दोस्ती क्या | खुदा मुझको यकीं खुद पे बहुत है | तो पंडित हो या चाहे मौलवी क्या | मुहब्बत के ‘ चरागे – दिल बुझे हैं | तो जाये आज या कल जिंदगी क्या | हजारों ‘ ख्वाहिशें ‘ फीकी पड़ी हैं | मुकद्दर है नही तो फिर कमी क्या | अगर ‘ तुम छोड़ दो लड़ना तो सोचूं | गुलों की खार से होगी दोस्ती क्या | »

नादान

हर एक तनहा लम्हे में एक अर्थ ढूँढा करती थी| हर अँधेरी रुसवाई में गहरा अक्श ढूँढा करती थी | मैं मेरी परछाई में एक शख्स ढूँढा करती थी| मेरी मुझसे हुई जुदाई में कुछ वक़्त ढूँढा करती थी | लोग कहते थे की नादानी का असर है, मैं उस नादानी में भी कदर ढूँढा करती थी| »

दिल और दिमाग

यूँ तो दिल उबल रहा है, शब्दों के उबाल से | और ये कम्बखत दिमाग कहता है, अपने ज़ज्बातों को संभाल ले | »

नहीं तकदीर में जो मेरे क्यों फिर जुस्तजू करते

गजल : कुमार अरविन्द नहीं तकदीर में जो मेरे क्यों फिर जुस्तजू करते | मेरी किस्मत में क्या है वो पता जाकर के यूं करते | रखी इज्जत हमेशा है जिसने अपना समझकर तो | उसी इंसान को ऐसे नहीं बे – आबरू करते | हमें मिलने का मौका तो नही मिल पायेगा जानम | कभी ख्वाबों में आ जाओ तो जी भर गुफ़्तगू करते | ज़हर का घूंट पीकर भी बचे यदि तो बचा लेना | किसी भी हाल में साहब नहीं ‘रिश्तों का खूं करते | ये दिल का... »

Ghazal

मुहँ लटकाए आख़िर तू क्यो बैठा है इस दुनिया में जो कुछ भी है पैसा है दुख देता है घर में बेटी का होना चोर -उचक्का हो लड़का पर अच्छा है कुछ भी हो औरत की दुश्मन है औरत सच तो सच है बेशक थोड़ा कड़वा है सबकी हसरत अच्छे घर जाए बेटी लड़का कितना महगां हो पर चलता है शादी क्या है सौदा है जी चीज़ो का खर्च करेगा ज्यादा वो ही बिकता है लुटने वालो को लूटे तो क्या शिकवा आज लकी मै भी लूटूँ तो कैसा है »

Page 4 of 49«23456»