अंजुमन

अंजुमन में कैसे आऊं,
पीत चुनरिया ले के .।
केश खुले, श्रृंगार नहीं है ,
भीष्म पितामह, द्रोण भी बैठे ।

Related Articles

Responses

New Report

Close