अति साहसी, मायादेवी है जिनके व्यवहार ।।

अति साहसी, मायादेवी, मूर्ख, लोभी जिनके व्यवहार।
अपवित्र, निर्दयी, अवगुणों से भरा जिनका तन।
छल-कपट से जो बाज न आये, यह है दुष्ट-निर्दयी स्त्री का गुण।
पर सब नारी नहीं होत, इन अवगुणों के अधीन।
युग-युग हर युग में जन्म लिये है, ये है नारी समाज का आदर्श है।
जिनके नाम हैः- सतरूपा, अनुसूईया, सावित्री, अहल्या, सीता,
मन्दोदरी,तारा, कुन्ती, द्रौपदी व झाँसी की रानी महान।
इन्हीं नाम में आता है पंचकन्याओं का नाम ।
जिनके नाम लेने से मिट जाते है नर का सभी अभिमान।
जो नर जपे उर में (से) पंचकन्याओं का नाम।
वो शीघ्र पा जाते है इन्द्रियों पे अधिकार ।
जो नर समझें नारियों को अपनी मा-बहन।
वो नहीं फँसते कभी इन्द्रियों के वश।।
पंचकन्याओं में आता अहल्या, मन्दोदरी, तारा, सीता, कुन्ती व द्रौपदी का नाम ।
जिनके नाम है सभी नारियों में सबसे महान ।।
कवि विकास कुमार ।।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close