*अपने नसीब की*..

आह ! ना लेना कभी,
किसी गरीब की
हर किसी को मिल जाती है,
अपने नसीब की..

*****✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Pragya Shukla - November 20, 2020, 9:58 pm

    Yes you are right
    👍👍

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 21, 2020, 8:21 am

    उत्तम

  3. Satish Pandey - November 21, 2020, 9:52 am

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ, यथार्थ का कम शब्दों में बेहतरीन चित्रण

    • Geeta kumari - November 21, 2020, 9:59 am

      समीक्षा हेतु आभार सतीश जी बहुत बहुत धन्यवाद 🙏

  4. Anu Singla - November 21, 2020, 12:22 pm

    Very true

Leave a Reply