“अलग है”

ღღ_यूँ हर एक शख्स में अब, मत ढूँढ तू मुझको;
मैं “अक्स” हूँ ‘साहब’, मेरा किरदार ही अलग है!
.
झूठ के सिक्कों से, हर चीज़ मिल ही जाती है;
पर जहाँ मैं भी बिक जाऊं, वो बाज़ार ही अलग है!
.
यूँ तो हुस्न वाले, कम नहीं हैं इस दुनिया में;
पर जिसपे मैं फ़ना हूँ, वो हुस्न-ए-यार ही अलग है!
.
यूँ तो इन्तज़ार करना, मेरी फितरत में नहीं शामिल;
पर तेरी बात कुछ और है, तेरा इन्तज़ार ही अलग है!
.
राँझा, फ़रहाद, मजनू अब, गुज़रा हुआ कल हैं;
मैं ख़ुद ही ख़ुद की मिसाल हूँ, मेरा प्यार ही अलग है!!….

#अक्स


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

6 Comments

  1. Sridhar - July 10, 2016, 2:22 am

    Behtareen

  2. Joney Singhal - July 10, 2016, 3:57 pm

    Nice

Leave a Reply