अहिंसा के पुजारी हम

अहिंसा के पुजारी, सत्य, प्रेम , करूणा
जैसे मानवीय गुणों की हमें दरकार है ।
किसानों के हिमायती की दृढ़ता को
अपनाने हेतु क्या हम पुनः तैयार हैं ।
अपनी मानवीय संवेदना को
रखना हमें बरकरार है ।
उत्पीङको के प्रति दया
रखने वालों से टकरार है ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Isha Pandey - October 2, 2020, 9:21 pm

    बहुत खूब

  2. Satish Pandey - October 2, 2020, 10:04 pm

    अहिंसा के पुजारी, सत्य, प्रेम , करूणा
    जैसे मानवीय गुणों की हमें दरकार है ।
    वाह बहुत खूब, उच्च मानवीय गुणों की महत्ता को प्रतिपादित किया है आपने।

  3. Geeta kumari - October 2, 2020, 10:15 pm

    बापू गांधी जी और शास्त्री जी के नारे को आत्मसात करने की प्रेरणा देती हुई बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

  4. Rajeev Ranjan - October 2, 2020, 10:21 pm

    चरैवेति चरैवेति सुमन जी
    हर अवसर पर आपकी लेखनी आपकी प्रतिभा का नया रंग प्रस्तुत करता है।

  5. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 2, 2020, 11:04 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply