आईना

चुपके से रोज मैं उससे सवाल करता हूं,
स्टेटस पर तस्वीर देखकर, उसे प्यार करता हूं |

गोल सी आंखों में सपने उसने जो सजाए हैं,
लगता है मेेरी कल्पनाओं से बड़ा मेल खाए हैं |

अभी तक तो बातें इशारों में किया करता हूं,
उसके जेहन में क्या है ये विचार रखता हूं |

पलभर न देखूं उसे तो जी ये मचलता है,
आईना सामने से अब मुझसे सवाल करता है |

कश्मकश में अब हर रोज मैं जीये जा रहा हूं,
कैसे बयां करूं उससे मैं दर्द में मरे जा रहा हूं |

काश जो वो मेरी कल्पनाओं को मंजूर करती है,
सच कहूं जमाने भर से स्वीकार उसे करता हूं |


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

बेटी हुई पराई

मंगलसूत्र; सुहाग का प्रतीक

दहेज प्रथा एक अभिशाप

शहादत को नमन

3 Comments

  1. Pragya Shukla - October 16, 2020, 11:22 pm

    Waah bahut khoob

  2. Rishi Kumar - October 17, 2020, 11:59 am

    सुंदर

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 17, 2020, 5:52 pm

    सुंदर

Leave a Reply