आओ ऐसे दीप जलाओ

इस दीवाली सबके हृदय में दया , शांति, करुणा और क्षमा का उदय हो, क्रोध और ईर्ष्या का नाश हो और प्रेम का प्रकाश हो।दीपावली के शुभ अवसर पर सबके शुभेक्षा की कामनाओं के साथ प्रस्तुत है ये कविता” आओ आओ दीप जलाओ।

निज तन मन में प्रीत जगाओ,
अबकी ऐसे दीप जलाओ।
सच का दीपक तेरे साथ हो,
और छद्म ना तुझे प्राप्त हो।

तू निज वृत्ति का स्वामी बन,
मन घन तम ना गहन व्याप्त हो।
तेरे क्रोध पे तेरा जय हो,
तेरे चित्त ईर्ष्या का क्षय हो।

उर में तेरे प्रेम प्रतिष्ठित,
दया क्षमा करुणा अक्षय हो।
जो भी जैसा है इस जग में,
आ जाते जो तेरे डग में।

अगर पैर को छाले देते,
तुम ना दो छाले उन पग में।
जिसका जैसा कर्म यहाँ पर,
जिसका जग में है आचार।

वो वैसे फल के अधिकारी,
जो जैसा कर सब स्वीकार।
जग के हित निज कर्म रचाओ,
धर्म पूण्य उत्थान का।

दीप जलाओ सबके घर में,
शील बुद्ध निज ज्ञान का।
सबको अपना मीत बनाओ,
आओ आओ दीप जलाओ।

अजय अमिताभ सुमन
सर्वाधिकार सुरक्षित

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

आई शुभ दीवाली..

आई शुभ दीवाली देखो आई शुभ दीवाली टिमटिम करते देखो दीपक आई शुभ दीवाली धनतेरस को खूब खरीदा हमनें सोना-चाँदी सज-धज देखो लक्ष्मी माँ आई…

Responses

New Report

Close