आओ नदिया स्वच्छ बनाएं

नदियां हैं जीवनदायिनी,
उज्जवल है मोक्ष प्रदायिनी।
कचरा ना इन में डालो तुम,
बर्बादियों ना पालो तुम।
शीशे सी साफ हो
जब झांको तुम ।
सुंदर धरा यह हरी भरी
लगती है तुमको भी भली।
तो आओ मिलकर शपथ उठाएं
नदी नालों को साफ बनाएं।
शुद्ध जल के स्रोत बढ़ाएं
स्वच्छ भारत अभियान चलाए।
निमिषा सिंघल

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Astrology class - October 6, 2019, 7:39 pm

    सुन1
    सुंदर

  2. Poonam singh - October 6, 2019, 8:51 pm

    Nice

  3. देवेश साखरे 'देव' - October 7, 2019, 10:43 am

    बहुत खूब

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 7, 2019, 11:13 am

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply