आखिरी मुलाकात

एक बहना चली बांधने राखी
अपने भाई के हाथ में।
क्रूर काल ने बदल दिया इसे
आखिरी मुलाकात में।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. मोहन सिंह मानुष - August 5, 2020, 9:32 pm

    बहुत ही मार्मिक

  2. Satish Pandey - August 5, 2020, 10:13 pm

    अत्यंत मार्मिक

  3. Geeta kumari - August 5, 2020, 10:21 pm

    बहुत मार्मिक है😥

  4. vivek singhal - August 5, 2020, 10:49 pm

    Yah kisi ke sath na ho prabhoo

  5. मोहन सिंह मानुष - August 5, 2020, 11:08 pm

    बहुत ही दुखद समाचार है सर!
    हौसला रखे! सब परमात्मा का खेल है हमारे हाथ में कुछ नहीं होता। भगवान पूरे परिवार को इस दुःख से उभरने की हिम्मत दे।🙏🙏😔

Leave a Reply