आयना

तस्वीरों से बतिया के देखो
अक्स रूह तक हो आएगी
आईने मैं कतरा बहा कर देखो
खोई से तेरी झलक आएगी
साहिलों से लड़ के हारे भी हो अगर
फिर महकने की ख्वाहिश सता जायेगी!!!

Related Articles

मेरी हार …

मोहब्बत में हारे, क़यामत  में हारे की ये ज़िंदगी हम शराफत में हारे.. न कोई है अपना ,न कोई पराया, अब जियें किसलिए  और किसके…

Responses

+

New Report

Close