आया राखी का पावन त्योहार भैया

आया राखी का पावन त्योहार भैया।
तुझको पुकारे बहना का प्यार भैया।।
फूल अक्षत चंदन से मैं थाली सजाई।
मेवा मधुर और घी की ज्योति जगाई।।
आंगन में अहिपन बनाई दो-चार भैया।
आजा, तुझको पुकारे बहना का प्यार भैया।।
आया राखी का पावन त्योहार भैया……।।
सब मंगल भरे हैं इन धागों में यार।
ना मामूली है इसमें बहना का प्यार।
दिल से दिल का ये है आधार भैया।
जरा सुन ले ‘विनयचंद ‘ पुकार भैया।
आजा, तुझको पुकारे बहना का प्यार भैया।।
आया राखी का पावन त्योहार भैया ………..।।

Related Articles

माखन चु रई या

माखन चुरैया __________ मीठी मुस्कान तेरी अजब तेरी लीला। बांके बिहारी तू है छैल छबीला। तीखे नयन तेरे करे हैं इशारे, बांसुरी बुलाए मुझे सांवरे…

कविता

कविता- ज्योति पासवान ——————————– आज लूटी है उस की ज्योति ,कल तेरी ज्योति लूट जाएगी| आंख की ज्योति , घर की ज्योति! ज्योति चाहे जिसकी…

Responses

  1. भाई- बहन के पावन त्यौहार पर उनकी भावनाओं को व्यक्त करती सुंदर रचना

New Report

Close