आह,लगेगी उस गुड़िया की

आह लगेगी उस गुड़िया की,
बच तो तुम भी ना पाओगे
हर बेटी देश की, आवाज़ उठाएगी,
तुम भी बख़्शे नहीं जाओगे
“सूली चढ़वाऊंगी, फांसी लगवाऊंगी,
अपने हत्यारों को सज़ा दिलाने,
पुनर्जन्म ले कर भी आऊंगी
पुनर्जन्म ले कर भी आऊंगी “..

Related Articles

अनकही बाते

बिन कहे क्या तुम समझ जाओगे समझने कि तकलीफ उठा पाओगे या फिर पूछने पर वही थम जाओगे सर उठाकर ना कह पाओगे स्याही के…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

बेटी

गांव गांव में मारी जाती, बेटी मां की कोख की, बेटी मां की कोख की, बेटी मां की कोख की।। जूही बेटी, चंपा बेटी, चन्द्रमा…

Responses

  1. बहुत बेहतरीन पंक्तियाँ, दबंग आवाज,
    “अपने हत्यारों को सज़ा दिलाने,
    पुनर्जन्म ले कर भी आऊंगी”
    वाह ओज से भरपूर, शानदार कविता

    1. समीक्षा के लिए धन्यवाद सतीश जी , ऐसी घटनाओं को सुन कर हृदय बहुत विचलित हो जाता है । ऐसे लोगों का तो तुरंत ही फांसी का प्रावधान होना चाहिए ।

      1. गीता मैम मैंने भी इस दुखद घटना पर अपने भाव प्रकट किए हैं , कृपया अपने कीमती समय में से थोड़ा सा समय मेरी रचना को प्रदान करें 🙏 धन्यवाद

  2. बहुत ही सच्ची प्रस्तुति, आपकी लेखनी से जैसी उम्मीद रहती है वैसी कविता प्रस्फुटित होती है

    1. समीक्षा हेतु बहुत बहुत धन्यवाद रमेश जी । प्रयास करूंगी भविष्य में भी मेरी लेखनी आपकी उम्मीदों पर खरी उतरे 🙏

+

New Report

Close