इंतज़ार तुम्हारा

0

चंद हर्फ़ तुम्हारी नज़र करता हूँ ।
तुम पे कुर्बान दिल-ओ-जिगर करता हूँ ।

मेरे ख्वाबों की ज़ीनत हो तुम,
इंतज़ार तुम्हारा हर पहर करता हूँ ।

काँटों से दामन इस कदर उलझा,
सुलझाने की कोशिश हर कसर करता हूँ ।

कभी न कभी तो मिलोगी किसी मोड़ पर,
इसी उम्मीद में जिंदगी बसर करता हूँ ।

गर आये कभी मौका जां-ए-आजमाइश का,
तुम्हें अमृत खुद को ज़हर करता हूँ ।

जहाँ भी हो खुशियों के बीच रहो,
दुआ मैं ‘देव’ शब-ओ-सहर करता हूँ ।

देवेश साखरे ‘देव’

हर्फ़- शब्द, ज़ीनत-सुन्दरता, शब-ओ-सहर- रात और दिन

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. Kumari Raushani - October 29, 2019, 1:43 pm

    बहुत खूब

  2. Poonam singh - October 29, 2019, 4:10 pm

    Bahut khub

  3. NIMISHA SINGHAL - October 29, 2019, 5:47 pm

    Good one

  4. nitu kandera - October 30, 2019, 11:28 am

    Nice

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 30, 2019, 9:53 pm

    वाह बहुत खूब

  6. Abhishek kumar - November 25, 2019, 12:00 am

    वाह

Leave a Reply