इक लौ जलाकर आया हूं अंधेरों में कहीं

इक लौ जलाकर आया हूं अंधेरों में कहीं
ख्वाहिश है के वो कल तक सूरज बन जाये


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Mithilesh Rai - May 27, 2018, 4:24 pm

    बहुत खूब

  2. राही अंजाना - May 30, 2018, 7:56 am

    Khoob

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 1:59 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply