इज़हार

तुझे जाने की जल्दी थी,
और मैं रोक ना सका,
काश तू थोड़ा इंतजार कर पाता।
तेरे जाने के बाद उतरे,
जो बेतहाशा कागज़ पे,
काश मैं उन लफ़्ज़ों से
अपने इश्क़ का इज़हार कर पाता।
……देवेंद्र


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply