इन्सानियत कहाँ

3: इन्सानियत कहाँ
जिनसे जीवन के गुल खिले, मरते ही शूल हो गये
जिन्दगी जीने की चाह में क्यूँ, मशगूल हो गये ।।
यह ऐसी महामारी है जिसने इन्सानियत में सेंध लगाई है
अमानवीय बन बैठे हैं हम,अपनों ने नजर यूँ चुराई हैं
यह संक्रमण अपने संग वो दर्पण भी एक लाया है
छिपे चेहरे से परत-दर-परत पङी चिलमन भी हटाया है
काल के इस रूप में, सारे नाते-रिश्ते,तार-तार हो गये ।।
जिनसे—
दुश्मन भी दुश्मनी त्याज, जीवन की अंतिमयात्रा में आता है
उदाहरण- इतिहास के जयद्रधबद्ध के पन्नों में मिल जाता है
पर विधाता ने कैसी दारूण बेला, आज लायी है
मृतपङे अपनेको, छूने की जहमत ,हमने नहीं उठायी है लावारिश पङे शव, अपनों को भी अछूत हो गये ।।
जिनसे—
कोरोना का खौफ कुछ ऐसा है
सारे रिश्ते बेमानी,जीवन ही जैसे धोखा है
इसने तोङ दी,जन्मों से जुड़ी,रिश्तो की कङियो को
जीतेजी दिखलादी,अपनों से मुँह मोड़ने की घङियो को
आज अपना संस्कार,संस्कार देने वालोँ का लाङ भूलें हैं
बेगाने बन बैठे वे कंधे,बचपन में हम बैठ जहाँ झूले हैं
पङी जमी पर पथरायी आँखे,हमारी इन्सानियत की निशानी है ये
किसी के परिजनों को क़ोई और देता कफन,बदलते रिश्ते की कहानी है ये
चन्द घङियो की चाह में,कैसे संवेदनहीन हो गये।।
जिनसे—-
सुमन आर्या

3: इन्सानियत कहाँ
जिनसे जीवन के गुल खिले, मरते ही शूल हो गये
जिन्दगी जीने की चाह में क्यूँ, मशगूल हो गये ।।
यह ऐसी महामारी है जिसने इन्सानियत में सेंध लगाई है
अमानवीय बन बैठे हैं हम,अपनों ने नजर यूँ चुराई हैं
यह संक्रमण अपने संग वो दर्पण भी एक लाया है
छिपे चेहरे से परत-दर-परत पङी चिलमन भी हटाया है
काल के इस रूप में, सारे नाते-रिश्ते,तार-तार हो गये ।।
जिनसे—
दुश्मन भी दुश्मनी त्याज, जीवन की अंतिमयात्रा में आता है
उदाहरण- इतिहास के जयद्रधबद्ध के पन्नों में मिल जाता है
पर विधाता ने कैसी दारूण बेला, आज लायी है
मृतपङे अपनेको, छूने की जहमत ,हमने नहीं उठायी है लावारिश पङे शव, अपनों को भी अछूत हो गये ।।
जिनसे—
कोरोना का खौफ कुछ ऐसा है
सारे रिश्ते बेमानी,जीवन ही जैसे धोखा है
इसने तोङ दी,जन्मों से जुड़ी,रिश्तो की कङियो को
जीतेजी दिखलादी,अपनों से मुँह मोड़ने की घङियो को
आज अपना संस्कार,संस्कार देने वालोँ का लाङ भूलें हैं
बेगाने बन बैठे वे कंधे,बचपन में हम बैठ जहाँ झूले हैं
पङी जमी पर पथरायी आँखे,हमारी इन्सानियत की निशानी है ये
किसी के परिजनों को क़ोई और देता कफन,बदलते रिश्ते की कहानी है ये
चन्द घङियो की चाह में,कैसे संवेदनहीन हो गये।।
जिनसे—-
सुमन आर्या

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

  1. सुंदर शब्दावली का प्रयोग इंसानियत पर बहुत ही मार्मिक सहज कविता बहुत ही सरल भाषा में कवि के द्वारा व्यक्त की गई है।

New Report

Close