इश्क एक बुखार

इश्क का बुखार बड़ा ही लज्जतदार।
आत्मा पर हो जाता एक जुनून सा सवार।
कर देता अच्छे खासे इंसान को बेकार।
हंसता खेलता इंसान लगने लगता बीमार
मीठा जहर यह बड़ा ही असरदार।
पीना हर कोई चाहे,
चाहे जमाने की पड़े मार।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Poonam singh - October 8, 2019, 1:28 pm

    Wahh

  2. Shivam Tomar - October 8, 2019, 1:41 pm

    Kya baat he

  3. देवेश साखरे 'देव' - October 8, 2019, 3:07 pm

    बहुत खूब

  4. NIMISHA SINGHAL - October 8, 2019, 10:46 pm

    Aabhar

Leave a Reply