उपन्यासों के सम्राट : मुंशी प्रेमचंद

प्रेमचंद्र का जन्मदिवस:-
(31 जुलाई 1880)
******************
हिन्दी कहानी के पितामह
उपन्यासों के सम्राट
नाम है जिनका धनपत राय
वह थे विश्व विख्यात
जिसने दिया सजल नैनों का सागर
अपने लेखों से भर दी गागर में सागर
जीवन पर्यंत दिया हिंदी को
नाम और सम्मान
कालजई रचना थी उनकी स्वर्णाक्षर ‘गोदान
जय हो, जय हो, प्रेमचंद्र की
यूं ही उनका सम्मान रहे
प्रज्ञा’ भी कुछ सीखे उनसे
जिससे हिंदी में योगदान रहे।।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

New Report

Close