एक बूंद मुस्कराहट

तुमे शायद पता नहीं,
एक दिन चुपके से मैने,
चुरा ली थी तुमारे होठों से,
एक बूंद मुस्कराहट।
कई दिन छुपा के रखता रहा,
कभी तकीये के नीचे,
तो कभी चांद के पीछे,

बहुत चंचल थी वो,
कभी चुपके से आ के,
बैठ जाती थी मेरे होठों पे,
तो कभी चांद के पीछे से
मुझे ताकती थी,
वो एक बूंद मुस्कराहट।

मैं सींचने लगा उस बूंद को,
अपनी मुस्कराहट से,
ताकी यह बन जाऐ
हंसी का एक चश्मा,

फिर एक दिन,
तुम खो गई,
और खो गई मुझसे,
वो एक बूंद मुस्कराहट।

लेकिन हैरान हूं,
वो तो मेरे पास थी,
फिर कैसे खो गई,
जहन की किसी उदेड़बुन में,
उलझ गई है शायद,
वो एक बूंद मुस्कराहट।

लेकिन अब भी
जब तुम याद आती हो,
तो आंख के किसी कोर से,
झांकती है बाहर,
वो एक बूंद मुस्कराहट।

छुपा लेता हूं आंख बंद कर के,
कि कहीं बाहर ना आ जाऐ,
और जमीन पे गिरकर,
कहीं मिट्टी में खो ना जाऐ,
आखिर एक ही तो निशानी है,
मेरे पास तेरे जाने के बाद,
वो एक बूंद मुस्कराहट।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Riyaz Saifi - August 22, 2019, 2:06 pm


    बहुत खूब

  2. ashmita - August 22, 2019, 2:51 pm

    Nice

  3. Poonam singh - August 23, 2019, 8:10 pm

    Nice

Leave a Reply