एक शेर एक कताअत्

ये गुलदान खाली है थोडे गुलाब दे देते
मेरा गिलास खाली है थोडी शराब दे देते |
कब से खडा मतिहीन है तेरे दीदार को
जो दिल में है ओ सामने जवाब दे देते ||
मै मुफलिस सही मुझको आजमा लिया होता
मेरी खुशामदी में ही सही आदाब दे देते |
अंधेरा है खुदा बख्सा मुझे तो गम नही कोई
तुम अपने हुश्न रौशन का ही माहताब दे देते ||
उपाध्याय…


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:05 pm

    lajabaab

Leave a Reply