ओज कविता- शिकार किया करते है |

ओज कविता- शिकार किया करते है |
पीठ पीछे से वार सदा सियार किया करते है |
हिन्द के जवान मुंह सदा हुंकार किया करते है |
नापाक दुशमनों तुम हमे क्या आजमाओगे |
सामने आओ हम शेर शिकार किया करते है |
चूपके से घुस आए हमारी सीमा बोलो तुम |
मुक्का कमर तोड़ बैरी चित्कार किया करते है |
बढ़ाकर हाथ दोस्ती पीठ पीछे खंजर वालो |
अहिंसा पुजारी हिन्द होशियार किया करते है |
दिखा पटाखा एटम बम की धमकी न देना तुम |
चौड़ी छाती हम राफेल हथीयार लिया करते है|
काश्मीर हमारा था और रहेगा तिरंगा फहरेगा |
पाक गैंग महबूबा तुम्हें गद्दार कहा करते है |
खाते हो जिस थाली मे छेद उसी मे करते हो |
देशद्रोहियों का तम्बू हम उखाड़ दिया करते है |
बन रहा मंदिर भगवान सब मिल श्रीराम कहो |
जाती धर्म की राजनित धिक्कार किया करते है |
भारत मे रहना मगर भारत की नहीं सुनना है |
सवींधान बिरोधियों हम सुधार किया करते है |
देश बिरोधी बोली वालों सुन लो ध्यान लगाय |
जीभ मे राख़ लगा हम उखाड़ लिया करते है |
डालकर गिद्ध निगाह खून काश्मीर बहाया था |
कर कत्लेआम पंडितो रातो रात मार भगाया था |
भेज आतंकियों सीमा जवान सैकड़ो शहीद किया |
खाया मार सैकड़ो बार पर उसने न सीख लिया |
चढ़ आया कारगिल की चोटी बड़ी भूल किया |
चलाया हमने भी तोप दुशमन को धूल किया |
किया सर्जिकल स्ट्राइक सबको मटिया मेट किया |
चुकाया बदला सबका जवानो ने सब सेट किया |
मर मिट जाएँगे हम सिर हिन्द न झुकने देंगे |
चला जो चक्र भारत का कभी न हम रुकने देंगे |
शेरे हिन्द बीर जवान सदा ललकार किया करते है |
हिन्द के जवान मुंह सदा हुंकार किया करते है |

जय हिन्द |
श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी
बोकारो झारखंड मोब -9955509286

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close