ओ रे कृष्णा

ओ रे कृष्णा
काहे सताये मोहे
पनघट पर पनिया भरत में
काहे छेड़े मोहे
मटकी फ़ोड़े
राहे रोके
निस दिन बरबस ही
आके टोके
जरा भी लाज शरम
न आये तोहे
ओ रे कृष्णा
काहे सताये मोहे

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

ओ मैया! मोरी

ओ मैया! मोरी पीर बड़ी दुखदायी सब कहें मोहे नटवर-नागर माखनचोर कन्हाई। तेरो लाला बरबस नटखट कब लघि बात छपाई। ओ मैया! तेरो कान्हा माखन…

Responses

New Report

Close