करने को कुछ और “करम” अभी बाकी हैं

टूट चूका हूँ , चाह जीने की छोड़ चूका हूँ !
फिर भी ज़िंदा हूँ क्यूँकि साँसे कुछ “नम” अभी बाकी हैं …!

ना जाने कितने ही दर्द सह चुका !
ना जाने और कितने ही खाने को “ज़ख़्म” अभी बाकी है !

छोड़ के जा चुके हैं जो हमको !
“संग हैं हर पल मेरे ” मुझमें ये “भ्रम ” अभी बाकी है !

नाम-ए-पर्ची बहुत लम्बी है मेरे अपनों की !
बस इसी बात का मुझमें थोड़ा सा “अहम ” अभी बाकी है !

मेरा क्या है ! तू मेरे चाहने वालों को सलामत रखना …
ओ -खुदा ! अगर मेरे हिस्सें में थोड़ा-सा भी “रहम” बाकी है …!

ग़म को पीता हूँ , हँसकर जीता हूँ !
कर ले ज़िंदगी , जो भी करने को तेरे पास ” सितम ” अभी बाकी है !

सोचा कई बार की छोड़ दूँ ये दुनिया !
पर निभाने को…ऐ-नीरज… कई “धर्म ” अभी बाकी हैं

हिदायत-ऐ-नीरज …! ज़रा सोच-समझ के लगाना दिल ऐ-यारों
कि दिल के ज़ख़्मों के “मरहम” बनना अभी बाकी है… !!!

_______नीरज ” फ़ैज़ाबादी ”

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Poonam singh - September 26, 2019, 6:15 pm

    Nice

  2. Ashmita Sinha - September 26, 2019, 6:17 pm

    Nice

  3. देवेश साखरे 'देव' - September 26, 2019, 7:05 pm

    Bahut khub

  4. D.K jake gamer - September 26, 2019, 7:32 pm

    Nice

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 26, 2019, 11:06 pm

    वाह बहुत सुंदर

  6. NIMISHA SINGHAL - September 27, 2019, 6:36 pm

    Great

Leave a Reply