करवा चौथ

आज बहुत सुन्दर लग रही हो तुम
इस चाँद से चेहरे पर कुछ कहना चहुँ तो
पहले ही शर्मा कर हाथो से
चेहरे को ढक लेती हो तुम.

मुझे देखकर जो तेरे चेहरे की
लालिमा बढ़ती जाती है
देख- देख तुझे मेरे दिल की कलि
खिलती जाती है.

सबको रात का इंतजार है
देखने चमकते चाँद को दिल बेक़रार है
इतना सुन्दर श्रृंगार किया है
दिल तो लूटने को भी तैयार है.

आज सुनती सभी महिलाये
करवा चौथ की कहानी
सुनो प्रिया, श्रृंगार सहित श्रृंगार रहित
तुम ही सदा रहोगी मेरे दिल की रानी.

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. nitu kandera - October 17, 2019, 10:35 pm

    सुन्दर चित्रण

  2. NIMISHA SINGHAL - October 18, 2019, 4:48 am

    Nice

  3. sudesh ronjhwal - October 18, 2019, 7:15 am

    Good

  4. D.K jake gamer - October 18, 2019, 7:16 am

    Nice

  5. Poonam singh - October 18, 2019, 1:17 pm

    Nice

  6. Kandera Fitness - October 19, 2019, 7:27 am

    Wah

  7. kandera study - October 19, 2019, 7:30 am

    Good

  8. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 19, 2019, 8:25 pm

    वाह बहुत सुंदर

  9. Kandera - October 20, 2019, 5:59 am

    Good

Leave a Reply