कलियों में

एक तूफान सा छाया है
चारों ओर तुम्हारी गलियों में ।
ऐ भ्रमर मत उलझ काँटों से
खुशबू अभी कैद है कलियों में।।

Related Articles

Responses

New Report

Close