कवि की लेखनी:- मानवीय अलंकार

बोली लेखनी आज
मिटा तू घनघोर अंधेरा
विगत माह से तूने
मुझसे नाता तोड़ा
नाता तोड़ा तूने
मुझसे जोड़ जरा-सा
मैं (कलम) तेरे भावों और हूँ स्याही की प्यासा
लिखकर कविता और नज्म
तू मेरी प्यास बुझा दे
ओ पगली प्रज्ञा !
तू मेरा रोग लगा ले…

Related Articles

Responses

New Report

Close