कहां ढूंढू।

कहां ढूंढू में ऐसी भाषा कहीं,
जैसा बोलूं वैसा लिख पाऊं,
वो मैं मेरी हिंदी में ही पाऊं….


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Suman Kumari - September 14, 2020, 11:40 pm

    बहुत ही अच्छी

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 15, 2020, 9:47 am

    सुंदर

  3. Geeta kumari - September 15, 2020, 12:37 pm

    लाजवाब

  4. Pragya Shukla - September 15, 2020, 3:41 pm

    True

  5. मोहन सिंह मानुष - September 16, 2020, 11:23 pm

    हिंदी की विशेषता बताती हुई बहुत सुंदर पंक्तियां

  6. Pratima chaudhary - September 17, 2020, 8:41 am

    Thank you

Leave a Reply