कहानी

वो जिंदगी बेमानी, जिसमें कोई रवानी ना हो।
किस काम की जवानी, जिसकी कहानी ना हो।

मैंने भी मोहब्बत किया है, हाँ बेहद किया है,
किसी से दिल्लगी नहीं की, जो निभानी ना हो।

हमारा भी जमाना था, मशहूर इश्के-फसाना था,
इश्क ऐसा कीजिए, फिर जिसे छिपानी ना हो।

कहने को नहीं कहता, जिया जो वही लिखता हूँ,
सच कहता ‘देव’, वो नहीं कहता जो सुनानी ना हो।

देवेश साखरे ‘देव’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Poonam singh - October 6, 2019, 8:54 pm

    Bahutkhub

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 7, 2019, 11:13 am

    वाह बहुत सुंदर रचना ढेरों बधाइयां

  3. NIMISHA SINGHAL - October 9, 2019, 9:50 am

    👌👌

Leave a Reply