कांटो से लगे ज़ख्म

0

कांटो से लगे ज़ख्म तो सब भरते चले गए थे ‘ऐ-नीरज’
हैरत तो तब हुई जब इक फूल का स्पर्श नासूर बन गया !!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 26, 2019, 7:01 pm

    Wah bahut khub

  2. D.K jake gamer - September 26, 2019, 7:31 pm

    Nice

  3. राम नरेशपुरवाला - September 26, 2019, 7:39 pm

    वाह

  4. Poonam singh - September 26, 2019, 9:19 pm

    Good

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 26, 2019, 11:06 pm

    वाह बहुत सुंदर

  6. Ashmita Sinha - September 27, 2019, 2:17 am

    Nice

  7. NIMISHA SINGHAL - September 27, 2019, 6:35 pm

    👏👏

Leave a Reply