“कामयाबी की ईमारत”

आज भी वो दिन याद आते है उसे भुलाऊ कैसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

बचपन में कलम थमाई थी आपने, आज वो कलम झुमती है एसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

गली में देख आपको, डरता था मैं भी, ये मीठा डर लाऊ कैसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

दुनिया के सामने जीना सिखाया, ये तरिका अब आझमाऊ एसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

पाठशाला से लेकर आज तक की दूरी, समजा ना पाऊ ये सफर एसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

दुआ से आपकी ख्वाब भी पीछे छुटा, पता नही था मंजिल मीलेगी एसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…

जिंदगी भर चुका न पाऊ इस ईमारत की किंमत, आपकी याद रहेगी बेशक एसे
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे…
ये कामयाबी की ईमारत छोड जाऊ कैसे… Happy Teacher’s Day…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मेरे शिक्षक

कलम की ताकत

अज्ञानता का मिटा अंधेरा

गुरु का स्थान

37 Comments

  1. Soham Dave - September 1, 2019, 8:15 pm

    Very nice bro👌. Keept it up 👍

  2. jay trivedi - September 1, 2019, 8:29 pm

    Nice one…

  3. Hercules King - September 1, 2019, 8:36 pm

    Bhai bhai શુ વાત છે.

  4. Harsh Tukadiya - September 1, 2019, 9:08 pm

    aap to bahut achaa likhte hooo

  5. Bhargav Raval - September 1, 2019, 9:17 pm

    Nice lines…

  6. shalu padaliya - September 1, 2019, 9:22 pm

    I remember my school days, It is so beautiful
    Keep it up JDs

  7. Prachee Rajpoot - September 1, 2019, 10:25 pm

    अति सुंदर

  8. Vyas Shivangi - September 1, 2019, 10:39 pm

    Nice line…

  9. Gohil Sunil - September 1, 2019, 10:51 pm

    Nice line…

  10. Kinjari Brahmbhatt - September 1, 2019, 10:51 pm

    Nice one 👌 keep writing 🤘

  11. Piyush Chauhan - September 1, 2019, 10:51 pm

    very nice bro… keep it up

  12. Kuldeip Raval - September 1, 2019, 10:52 pm

    Jay gurudev🙏🙏

  13. Manshi Bisht - September 1, 2019, 10:53 pm

    good job

  14. Manshi Bisht - September 1, 2019, 10:54 pm

    OSM PoEm

  15. Karan Jain - September 1, 2019, 10:54 pm

    khubsoorat poetry bro👌

  16. Indrajit Gohil - September 1, 2019, 11:01 pm

    Nice line….

  17. Roshankumar Parmar - September 1, 2019, 11:08 pm

    simply beautiful written with so much talent.

  18. Rishit Shingala - September 1, 2019, 11:09 pm

    True feelings by your heart…. keep it up bro

  19. Resu Bagda - September 1, 2019, 11:15 pm

    Kya baat kya baat..good job..

  20. Tarun Dholakiya - September 1, 2019, 11:24 pm

    Nice lines ” गली में देख आपको, डरता था मैं भी, ये मीठा डर लाऊ कैसे “

  21. Niranj Bhaliya - September 1, 2019, 11:35 pm

    Nice bro….
    Keep it up….
    God bless you 🙏

  22. Chudasama Krushnapalsinh - September 1, 2019, 11:37 pm

    Nice jaydeep keep it up

  23. Shefali Tomar - September 2, 2019, 12:40 am

    Nice

  24. Soham Dave - September 2, 2019, 6:13 am

    Good job 👍👌💐

  25. Sultan Bhusara - September 2, 2019, 8:44 am

    one of Best poet to dedicate your Ideal Teache

  26. Dev Kumar Pukhraj - September 2, 2019, 9:30 am

    कामयाबी की इमारत और बुलंद हो। जीवन में उत्तरोतर प्रगति हो। भाव-भाषा पर पकड़ मजबूत कर अपनी भावनओं को ऐसे ही अभिव्यक्त करते रहें। यह प्रभु श्रीरामजी से प्रार्थना है। बहुत-बहुत बधाई औऱ साधुवाद

  27. Mili Saha - September 2, 2019, 9:41 am

    कामयाबी की इमारत के माध्यम से अपनी भावनाओं को सुंदर तरीके से व्यक्त करने के लिए जैडी का आभार। ऐसे ही लिखते रहें और कामयाबी के शिखर को छूते रहें।

  28. Heena Raviya - September 2, 2019, 10:16 am

    Very Nice Lines JD…
    You Rocks

  29. Jaydeep Bhaliya - September 2, 2019, 3:03 pm

    Thq.. So much all frnds… 😍😍

  30. Gautam Dodia - September 2, 2019, 6:52 pm

    Keep it up….

  31. Swati Tambade - September 3, 2019, 4:29 pm

    bhaot badiyaaaaa ji

  32. Ravindra Bharti - September 5, 2019, 12:18 pm

    This nice poem and tells every thing about teacher ,heartly congratulation for nice poem

  33. RJ Govind - September 5, 2019, 12:44 pm

    Good write up…Jaydeep Bhaliya

  34. राही अंजाना - September 6, 2019, 8:56 pm

    वाह

Leave a Reply