काश एक ख़्वाहिश

काश एक ख़्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर,
वो आके गले लगा ले मेरी इज़ाजत के बगैर।

Related Articles

Responses

New Report

Close