कितने पर्दे बदले….

कितने पर्दे बदले हैं,
इस जिंदगी ने।
कभी पुराने,
तो कभी नए।
कुछ फीके,
कुछ मटमैले।
और कुछ रेशम से नए।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. Vasundra singh - September 29, 2020, 9:17 am

    आपकी सोच थोड़ा हट के है, साधारण से शब्दों से ही आप बहुत कुछ कह देती हैं

  2. प्रतिमा चौधरी - September 29, 2020, 9:52 am

    आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।
    इस सुंदर समीक्षा के लिए।

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 29, 2020, 1:12 pm

    सुंदर

  4. मोहन सिंह मानुष - September 29, 2020, 1:19 pm

    थोड़े से शब्दों में गहरी बात

  5. Deep Patel - September 29, 2020, 8:59 pm

    Very nice

  6. Pushpendra Kumar - September 30, 2020, 8:05 pm

    बहुत बढ़िया

  7. Siya Chauhan - September 30, 2020, 11:59 pm

    Life is different…n we see new thing every day

  8. प्रतिमा चौधरी - October 1, 2020, 12:03 am

    Thank you

Leave a Reply