कुछ बोलना होगा

समस्याएं बहुत हैं
आपको मुँह खोलना होगा
जरा बिंदास होकर
आज तो कुछ बोलना होगा।
गरीबी मिटाने के लगे
जितने भी नारे हैं,
उनको हकीकत में
हमें अब तोलना होगा।
बेरोजगारी से युवा
हैं दर्द में काफी,
हमारी लेखनी को
आज तो कुछ बोलना होगा।
न हमें पक्ष से प्यार
ना ही है विपक्षी से
यौवन का भला तो आज
हमने सोचना होगा।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 15, 2021, 8:10 am

    अतिसुंदर

  2. Geeta kumari - January 15, 2021, 9:34 am

    बेरोज़गारी हो या कोई और मुद्दा ,कवि की कलम नहीं बोलेगी तो और कौन बोलेगा। समाज के हर वर्ग और हर क्षेत्र में लिखती कवि सतीश जी की कलम से निकले बहुत ही सुन्दर उद्गार । बहुत उम्दा लेखन

Leave a Reply