कुछ रातें ऐसी होती हैं

कुछ रातें ऐसी होती हैं
जो कयी नये स्वप्न दिखाती हैं
जिन्हें पाने की मन में
जीजिविषा जगाती हैं ।
कुछ रातें ऐसी भी होती हैं
एक अपूरणीय क्षति कर जाती हैं
जिसकी वेदना से उठती टीस
हर रात जगाती हैं ।

Related Articles

एक टीस सी है

एक टीस सी है उठती, जिगर में सुलगती, न बुझती, न जलती, जैसे कोई चिंगारी, तिनके की आस में, हो हवा की तलाश में ।…

कर्मफल

स्वप्नों के बीज पर ही कर्म फल लगते हैं स्वप्न सीढ़ियों पर चढ लक्ष्य के फल चखते हैं । बगैर स्वप्न देखे कहाँ हम आगे…

Responses

+

New Report

Close