**कुर्बानी दो कुत्सित सोंच की**

जो बंदे बकरा-मुर्गा काट
छौंककर खाते हैं
वो मानुष भगवान के घर में
उल्टा लटकाए जाते हैं
निर्जीवों का तो इस जग में
कोई मान नहीं
क्या जीवित जीवों में भी
कोई जान नहीं ?
महसूस तो हैं वह भी करते
प्रेम और नफरत को
तो आखिर क्या कष्ट नहीं
होता होगा उन बकरों को
देते हो कुर्बानी तुम जीवित
जन्तुओं की
और मांगते हो बदले में
रहमत तुम खुदा की !
देनी है यदि बलि तो
अपनी कुत्सित सोंच की दे डालो
जिनको भूनकर खाते हो
उनको अपने घर में पालो
प्यार करेंगे वो इतना की
आँखें नम हो जायेंगी
खुदा से ज्यादा उनके दिल की
दुआएं तुम्हें मिल जायेंगी
बंद करो तुम जीवित
जीव-जन्तुओं को खाना-पीना
वरना किसी दिन तुमको इनकी
बद् दुआएं लग जायेंगी..

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

  1. बहुत ही सुन्दर विचार प्रस्तुत किए हैं प्रज्ञा आपने अपनी कविता के माध्यम से ।सच ही है कुर्बानी कुत्सित विचारों की करनी चाहिए ना कि बेजुबान मासूम जानवर की, इससे कौन सा ख़ुदा खुश होता होगा भला
    “क्षुधा मिटाने की खातिर कुदरत ने फल-फूल बनाए हैं,
    फ़िर पशुओं को क्यूं मारा जाए, वो भी तो कुदरत से आए हैं” ।
    बहुत सुंदर शिल्प, लय बद्ध शैली और बहुत सुन्दर विचारों से सुसज्जित बहुत संवेदनशील रचना ।

  2. मांस मदिरा सेवन करे जो लंपट में समय बीताता है।
    वही आदमी पहला नंबर कुंभकर्ण में आता है।।

New Report

Close