कैसे कहें सुरक्षित हैं तू

कैसे कहें ” सुरक्षित हैं तू”
—————–*******
हम भारत की आधी आबादी, कबतक सहे दुराचार
बढता ही जा रहा, थमता नहीं, हिंसक व्यवहार
आख़िर क्यूँ नहीं, कोई कर पा रहा इसका निराकार
सारी कोशिशें, सारे कानून, सावित हो रहे निराधार ।
दिन-प्रतिदिन बढती घटनाएं, छोङ रही सवाल
मानव क्या तू सच में है मानव कहलाने का हकदार
तेरी प्रवृतियाँ, पाश्विक नहीं, राक्षसों से बढ़कर है
कुछ तुम जैसों के कारण, हम सब ही हैं शर्मसार ।।
कबतक चलेगा यह घृणित मंशाओ का दुर्व्यवहार
कबतक आखिर बेटियां सहेगी अमानवीय अत्याचार
आख़िर क्यूँ होता यह मन दहलाने वाला बलात्कार
हे प्रभु! इन कुकर्मियो को तू ही सकता सुधार ।।
बेटियां देश के भविष्य की धरोहर, आधी आबादी है
पर विक्षिप्त सोंच, इनके मार्ग की सबसे बङी व्याधि है
आसमान में उङने की ललक लिए,मेहनत को अवादा हैं
पर कौन कहे, “निश्चिंत रह, सुरक्षित रहेगी तू”, वादा है
घिनौनी हरकतें कर रही, मानवता का तिरस्कार ।
बेटियाँ डरी-सहमी ना रहें, नि:संकोच कैसे विचरण करे
इनकी सुरक्षा करने को, हम सब मिलकर चिंतन करे
किसकी वज़ह से, बढ रहा, इनके प्रति यह अपराध
चिन्हित करना होगा, कारकों को, जिनसे बढा विषाद
हर घर को मिलकर, करना होगा इसका प्रतिकार ।।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

बढ़ता ही जा रहा

क्यूँ बारम्बार किया जाता महिलाओं के साथ घृणित अपराध, कयी तरह की वेदना-संताप से गुजरती,जिनसे होता बलात्कार । हर कानून बौना सावित, हर जायज कोशिश…

Responses

New Report

Close