कोई पीर न था

कोई पीर न था
कोई राहगीर न था
बहता हुआ नीर न था
 ज़िंदगी का फ़क़ीर न था
बस कुछ ढूंढती  है आँखें  
ज़माने की कोई तस्वीर न था

Related Articles

Responses

New Report

Close