“कोई राब्ता तो हो!!.”

ღღ__ठहरा हुआ हूँ कब से, मैं तेरे इन्तज़ार में;
आख़िर सफ़र की मेरे, कोई इब्तिदा तो हो!
.
मंजिल पे मेरी नज़र है, अरसे से टिकी हुई;
पहुँचूं मैं कैसे उस तक, कोई रास्ता तो हो!
.
किस तरह छुपाऊँ, जो ज़ाहिर हो चुका उसपे;
मैं कहना चाहता भी हूँ, पर कोई वास्ता तो हो!
.
वो कहता है ढूँढ लेंगे; तुझे दुनिया की भीड़ से;
मगर उससे पहले मेरे यार, तू लापता तो हो!!
.
फिक्र तो बहुत होती है, “अक्स” उसको तेरी;
हाल पूछे भी तो भला कैसे, कोई राब्ता तो हो!!….‪#‎अक्स‬


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

5 Comments

  1. Sridhar - June 17, 2016, 12:45 am

    Bahut khoob ankit ji

  2. Mikesh Tiwari - June 17, 2016, 12:53 am

    nice line

  3. Panna - June 17, 2016, 9:28 pm

    bahut khoob

Leave a Reply