क्या कहूँ!! ओ ज़ालिम

क्या कहूँ!!
दिल में कितनी उदासी छाई है,
तेरी बेरुखी मेरी जान पर बन आयी है।
————————————
मैं एक गुमशुदा सी शाम हूँ और,
तू मेरी रुसवाई है।
——-‐———–‐—————-
इन तूफानों के आगे,
दिल में मीलों की खाईं है।
————————————
समझ नहीं पाती हूँ मैं कभी-कभी,
ये तेरी मोहब्बत है या बेवफाई है।
————————————-
मेरे अश्कों से तेरा दिल नहीं पिघलता,
ओ ज़ालिम! तू कितना हरजाई है।
————————————–

Related Articles

Responses

New Report

Close