क्या लिखूँ जो दुनिया को भाये ।

गजल ।।

क्या लिखूँ जो दुनिया को भाये ।
मैं नहीं तो क्या कोई तो भाये जहां को ।।1।।

जहां को अगर लगते है शख्स वो प्यारे ।
तो मैं क्यूँ महफिल में सरेआम बदनाम हुँ ।।2।।

बदनाम मैं नहीं तो क्या वो आम आदमी है ।
जो जिस्म के बाजार में मेहनत के रोटि खाते है ।।3।।

जिनके ऊँची शान है, उनके बोल के भी कुछ दाम है ।
मगर जहां में फकीर के शान, सब मोल के महान ।।4।।

यूँही लोग आज कुछ लिख देते है ।
लोग बेवजह झंझट मोल लेते है ।।5।।

वो वक्त आज नहीं जो लेख को पढ़ते कोई ।
आज लोग सिर्फ पसंद टिप्पणियाँ पे ध्यान देते है ।।6।।

मगर मेरे दोस्त कवि शायर लेखक पसंद टिप्पणियाँ से कोशो दूर होते है ।
उनके विचार सूर्य के सूर्य के रौशनी तो क्या हर घरों में आबाद करती है ।।7।।।

जहां को अगर लगते है शख्स वो प्यारे ।
तो मैं क्यूँ महफिल में सरेआम बदनाम हुँ ।।8।।

कवि विकास कुमार


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Pragya Shukla - August 4, 2020, 10:59 am

    👌

  2. Satish Pandey - August 4, 2020, 2:58 pm

    हूँ लिखिए हुँ नहीं

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - August 5, 2020, 7:14 pm

    किलोल

Leave a Reply