खाएंगे

मुक्तक-खाएंगे
——————
अब बनाने वाले ही खाएंगे ,
कोई खाने वाला रहा नही,
लगता है, सब दावत मे गए,
या घर सब, रुठ के छोड़ गए
पर गए कहां यह पता नही,
पता होता तो हम उन्हें बुलाते,
अब घर सूना सूना लगता है,
कवियों के बिन सावन अपना
रुखा रुखा सा लगता है|
जो जुड़े हुए हैं ईश्वर उनके साथ रहो,
जो जुड़ कर चले गए –
ईश्वर उनको मेरा पैगाम सुना दो,
कोई याद किया है
कविता शायरी गजल गीत,
पढ़ने के लिए उत्सुक है,
———————————
**✍️ ऋषि कुमार प्रभाकर–


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

1 Comment

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 17, 2021, 9:29 pm

    बहुत खूब

Leave a Reply