“खिड़कियों से झांकती आँखें”

कितनी बेबस हैं लोह-पथ-गामिनी (रेलगाड़ी)
की खिड़कियों से झांकती 👁आंखें।
इन आंखों में अनगिनत प्रश्न उपस्थित हैं।
कितनी आशाएं कीर्तिमान हो रही हैं ।
अपने परिजनों से मिलन की उत्सुकता
ह्रदय को अधीर कर रही है।
परंतु कोरोना महामारी का भय
यह सोचने पर मजबूर कर रहा है,
कि कहीं अपने परिजनों को हम
भेंट स्वरूप कोरोना महामारी तो
प्रदान नहीं कर रहे?
यह बात लोह-पथ-गामिनी के इन
सहयात्रियों को व्यथित कर रही है।
मुख पर लगा मुखौटा(मास्क),
इंनकी इस धारणा को बखूबी प्रदर्शित कर रहा है।
इन श्रमिकों, प्रवासी मजदूरों को
इस बात की अत्यंत खुशी है
कि एक अर्से के बाद
जिस रोटी की तलाश में वो परदेस गए थे।
आज उसी रोटी की अभिलाषा में
अपने गंतव्य प्रस्थान करेंगे।
रूखी सूखी खाकर ही,
अपनी जठराग्नि को शांत करेंगे।
“मजबूरी में मजदूरी की
मजबूरी में घर से निकले।
आज फिर मजबूरी में
मजदूरी छोड़ प्रवासी पहुंचेंगे।।”

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

  1. आपकी कविताओं का रसपान करना मेरा सौभाग्य है।अति उत्तम 👏👏

  2. जठराग्नि
    1.
    पेट के अंदर का शारीरिक ताप जो भोजन पचाने का काम करता है।
    2.
    पाचन शक्ति।
    आपने शब्द का प्रयोग किस औचित्य से किया है कृपया समझाइए.
    चंद्रबिंदु की तो बात ही नहीं करते उसकी बात फिर कभी.
    #इंनकी# इस धारणा को बखूबी प्रदर्शित कर रहा है।
    इसमें भी हैशटेक के बीच आए शब्द का अर्थ जानने की इच्छुक हूँ

    1. Jarharaagni ka arth yaha roti ko khakar pachane we hai,inki par bindu galati she aaya or baataiye kya peeda hai aapko?
      Waise aalochana ke liye dhanyawaad.
      Mujhe be had pasand gain mujhame kami nikalane waale.kyooki wahi sachche dost hotel hain

New Report

Close